बड़ी खबर ! बैन हो सकते है शाओमी के 8 स्मार्टफोन, रेडमी नोट 5 सीरीज़ और मी मिक्स जैसे हिट फोन इस लिस्ट में शामिल

how to watch xiaomi a1 launch event live-in-hindi

चीनी कंपनी शाओमी ने भारतीय टेक बाजार में थोड़े ही समय में वो मुकाम पा लिया है जो शायद ही कोई दूसरी मौजूदा कंपनी पा सके। कुछ ही स्मार्टफोंस की बदौलत शाओमी इंडिया में नंबर वन मोबाईल ब्रांड बन चुका है। लेकिन शाओमी की यह चमक अब कभी भी फीकी पड़ सकती है। किसी भी दिन ऐसी खबर आ सकती है जिसमें बताया जाएगा कि शाओमी कंपनी ने अपने 8 स्मार्टफोंस का निर्माण अब बंद ​कर दिया है और ये स्मार्टफोन अब बाजार में नहीं बिकेंगे।

यह बात जितनी चौंकाने वाली है उतनी ही पेचीदा भी है। शाओमी इन स्मार्टफोंस को अपनी मर्जी से नहीं बल्कि कोर्ट के आदेश की वजह से बंद करेगी। और कोर्ट के इस आदेश की वजह होगी शाओमी पर लगा पेटेंट चोरी का इल्जाम। इस मामले में शाओमी के जो 8 स्मार्टफोन खतरे में हैं वो है — शाओमी मी मिक्स, रेडमी नोट 4एक्स, मी 6, मी मैक्स 2, मी नोट 3, रेडमी नोट 5, रेडमी नोट 5 प्लस (भारत में रेडमी नोट 5 प्रो ) और मी 5एक्स। इन सभी 8 स्मार्टफोन्स को पेटेंट चोरी वाला प्रोडक्ट माना गया है।

mi-home-gurugram-1

यह किस्सा शुरू हुआ था 3 महीने पहले जब कथित तौर पर शाओमी को पेटेंट उल्लंघन का दोषी करार मानते हुए एक मुकद्दमा दायर हुआ था। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह मुकद्दमा दर्ज कराने वाली कंपनी है कूलपैड। कूलपैड ने ही शाओमी पर उनके पेटेंट अधिकार को चोरी कर उनका यूज़ करने का आरोप लगाया है। कूलपैड सीईओ ज़िआंग चैंग का कहना है कि, ‘पहले हमें लगा कि हम कोर्ट के बाहर ही यह मामला सुलझा लेंगे, लेकिन शाओमी के ढ़ीले रवैये के बाद अब कूलपैड को कोर्ट में जाना ही पड़ेगा’।

शाओमी ने चला एक और दांव, लॉन्च किया बेहद ही शानदार स्मार्टफोन रेडमी एस2, जानें कीमत और स्पेसिफिकेशन्स

कूलपैड ने शाओमी के खिलाफ यह मामला अपनी अधीनस्थ कंपनी यूलॉंग कम्प्यूटर टेक्नोलॉजी के माध्यम से दर्ज कराया है। कूलपैड का आरोप है कि शाओमी अपने स्मार्टफोन्स में उन तकनीक या फीचर्स का इस्तेमाल कर रही है जिनका पेटेंट अधिकार कूलपैड के पास है। इस पेटेंट में ऐप आॅयकन मैनेजमेंट, नोटिफिकेशन्स और सिस्टम यूआई जैसे फीचर्स शामिल है।

xiaomi-coolpad

शाओमी के उपर बताए गए 8 स्मार्टफोंन का प्रोडक्शन और उनकी सेल को तात्कालिक प्रभाव से बंद कराने की मांग कूलपैड द्वारा की गई है। इसके साथ ही कूलपैड का कहना है कि शाओमी द्वारा कंपनी को हुए नुकसान की भरपाई भी शाओमी को ही करनी पड़ेगी। गौरतलब है कि इस भरपाई में नगद राशि भी शामिल हो सकती है। बहरहाल क्या सच में शाओमी पर आरोप सिद्ध होगा और कंपनी को अपने से 8 सुपरहिट स्मार्टफोंस बंद करने पड़ेंगे, यह सब कोर्ट के आदेश पर ही निर्भर करता है।

कूलपैड के इस आरोप के बाद शाओमी ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि मार्च 2018 तक कंपनी चीन के इंटलऐक्चुअल प्रोपर्टी आॅफिस में 3,600 के करीब पेटेंट अपने नाम करा चुकी है जब्कि 10,900 से भी पेटेंट अभी प्रोसेस में है। इसी तरह ग्लोबल मंच पर शाओमी 3,500 के करीब पेटेंट अपने नाम दर्ज करा चुकी है और 5,800 के करीब पेटेंट अभी यूएस व यू​रोप के साथ ही भारत, जापान व रशिया में निर्माणाधीन है। इन आंकड़ो को सामनें लाते हुए शाओमी साफ तौर पर कूलपैड के आरोपो का खंडन करती है।