नोकिया 3 रिव्यू: क्या इतना दमदार है कि फिर से नोकिया को नंबर 1 बनाएगा, जानें

पिछले कई सालों से भारतीय मोबाइल उपभोक्ताओं को नोकिया के एंडरॉयड फोन का इंतजार था और इस महीनें एचएमडी ग्लोबल ने एक साथ 3 नोकिया एंडरॉयड फोन को भारत में लॉन्च किया है। कंपनी ने नोकिया 3 के साथ नोकिया 5 और नोकिया 6 को भी पेश किया है। हालांकि नोकिया 5 और 6 अलगे महीने से सेल के लिए उपलब्ध होंगे लेकिन 3 फिलहाल भारत में आ चुका है जहां इसकी कीमत 9,499 रुपये है। लोग इस फोन के बारे में जानने के लिए काफी उत्सुक भी हैं। कैसा है यह फोन? क्या इतना दमदार है कि अपने बजट का बेस्ट फोन कहा जाए और क्या इसके माध्यम से नोकिया फिर से वापसी कर सकता है? अपने रिव्यू के दौरान हमनें इन्हीं सवालों का जवाब जानने की कोशिश की है।

nokia-3-10

​डिजाइन
फोन को देखकर ही आप कह सकते हैं कि इसमें नोकिया की क्वालिटी झलकती है। नोकिया 3 की बॉडी मैटल फ्रेम पर है और बैक पैनल पॉलीकार्बोनेट प्लास्टिक का बना है। हालां​कि आज 10,000 रुपये से कम के बजट में भी अच्छे मैटल बॉडी वाले फोन मिल जाएंगे लेकिन फिर भी आप लुक और क्वालिटी में इसे कम नहीं आंक सकते। फोन के कोने कर्वड हैं और इसका वजन भी काफी अच्छा है। हाथ में पकड़ने पर यह आपको काफी अच्छा अहसास कराएगा। नोकिया 3 यूनिबॉडी डिजाइन में उपलब्ध है।

nokia-3-8

आप बैक पैनल खोल नहीं सकते हैं ऐसे में सिम और मैमोरी कार्ड स्लॉट फोन के साइड पैनल्स में मिलेंगे जिसे खोलने के लिए आपको इजेक्टर की जरूरत पड़ेगी और वह सेल्स पैक के साथ है। कुल मिलाकर कह सकते हैं कि हमें नोकिया 3 का डिजाइन काफी अच्छा लगा। वहीं यह आपको थोड़ा पुराने नोकिया स्मार्टफोन का भी अहसास कराएगा।
एक झलक वनप्लस 5 की: देखें कितना दमदार है यह फोन

nokia-3-9

डिसप्ले
नोकिया 3 में 5-इंच की 2.5डी कर्व्ड आइपीएस स्क्रीन गई है। इसका भी स्क्रीन रेजल्यूशन एचडी (720×1280 पिक्सल) है। फोन की स्क्रीन कोर्निंग गोरिल्ला ग्लास कोटेड है जो इसे सुरक्षित रखता है। वहीं कंपनी ने स्क्रीन पर पोलराइज्ड लेयर का भी उपयोग किया है जिससे कि आप तेज धूप में भी आसानी से स्क्रीन पर चीजों को पढ़ सकें। हमनें तेज धूप में इसका उपयोग किया जहां चीजों को स्पष्ट रूप से देखने में सक्षम थे। रही बात डिसप्ले क्वालिटी की तो बहुत अच्छा है। इस बजट में इससे बेहतर की आप कामना नहीं कर सकते है। वहीं स्क्रीन का टच रिस्पॉन्स भी बेहतर है।

nokia-3-3

हार्डवेयर
नोकिया 3 को कंपनी ने मीडियाटेक 6737 चिप​सेट पर पेश किया है और बेहतर प्रोसेसिंग के लिए 1.3गीगाहट्र्ज का कोर्टेक्स ए53 प्रोसेसर दिया गया है। इसके साथ ही माली—टी720एमपी2 जीपीयू है। फोन में 2जीबी रैम और 16जीबी की इंटरनल मैमोरी दी गई है। इसके साथ ही इसमें मैमोरी कार्ड सपोर्ट भी है जहां आप 128जीबी तक के कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। 16​जीबी मैमोरी में से यूजर को लगभग 9जीबी मैमोरी मिलती है। वहीं बिना किसी ऐप उपयोग के भी 2जीबी में से आपको लगभग 0.8जीबी ही खाली मिलती है।

nokia-3-2

ऐसे में कहा जा सकता है कि आप इसमें बड़े गेम और ऐप को रन नहीं कर सकते। वहीं प्रोसेसर के मामले में भी यह फोन थोड़ा पीछे है। 9,000 रुपये से उपर के फोन में आप इससे बेहतर प्रोसेसर और 32जीबी तक के मैमोरी वाले फोन की कामना कर ही सकते हैं। हालांकि प्रयोग के दौरान हमनें कुछ बड़े ऐप और गेम इसमें डाउनलोड किए। गेम और ऐप्स को रन करने में सक्षम तो था लेकिन ऐप्स ओपेन होने में थोड़ा समय ले रहा था।

आॅनर 8 लाइट: शानदार स्टाईलिश लुक और बेहतरीन फोटोग्राफी फिल्टर्स के बावजूद प्रोसेसिंग में धीमा

nokia-3-1

सॉफ्टवेयर
नोकिया का यह फोन एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.1 नुगट पर कार्य करता है। फोन में स्टॉक एंडरॉयड है जिसे आप प्योर एंडरॉयड भी कह सकते हैं। इसमें आपको किसी प्रकार का कोई अतिरिक्त लेयर नहीं मिलेगा। फोन का यूजर इंटरफेस काफी स्मूथ है और आपको उपयोग के दौरान मजा भी आएगा। गूगल ऐप्स के अलावा कंपनी ने इसमें कोई अतिरिक्त ऐप भी नहीं दिया है ऐसे में आप खुद से अपनी पसंद का ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। जैसा कि मालूम है नए ओएस में आपको स्लाइड क्विक मेन्यू और एडिटेबल क्विक सेटिंग जैसे आॅप्शन मिलेंगे।

nokia-3-6

वहीं नए ओएस में आपको मेन्यू बटन नहीं मिलेगा बल्कि होम स्क्रीन पर एक ऐरो दिखाई देगा उसे क्लिक कर आप ऐप्स ट्रे को खोल सकते हैं। वहीं नोकिया ने इसे आगे भी एंडरॉयड अपडेट का भरोसा दिलाया है। यहां कहा जा सकता है कि हार्डवेयर की कमी को कंपनी ने सॉफ्टवेयर से पूरी करने की कोशिश की है और उसमें काफी हद तक सफल भी होती है।

nokia-3-7

कैमरा
नोकिया 3 में फ्रंट और बैक दोनों कैमरे 8-मेगापिक्सल के है। पिछले पैनल में आपको पुराने नोकिया स्टाइल में ही कैमरा प्लेसमेंट देखने को मिलेगा। रियर और फ्रंट दोनों कैमरे में एफ/2.0 अपर्चर का उपयोग किया गया है। फोन से ली गई पिक्चर की क्वालिटी अच्छी है लेकिन बहुत अच्छी नहीं कह सकते।

नोकिया फोन से हम और बेहतर की कामना कर रहे थे। आउटडोर में जहां अच्छी रोशनी स्थिति हैं वहां यह अच्छी तस्वीर ले रहा था लेकिन इंडोर में पिक्चर पिक्सलेट हो रहे थे। रही बात सेल्फी कैमरे की तो वहां भी स्थिति बहुत ज्यादा अलग नहीं है।

मोटो सी प्लस पहली झलक: बड़ी बैटरी के साथ लेटेस्ट एंडरॉयड बनाता है इसे खास लेकिन डिजाइन में थोड़ा पीछे
nokia-3

कनेक्टिविटी
डाटा व कनेक्टिविटी की बात करें तो नोकिया 3 में आपको दोहरा सिम सपोर्ट मिलेगा और यह फोन 4जी वोएलटीई से लैस है। हालांकि फोन में फिंगरप्रिंट सेंसर नहीं दिया गया है लेकिन आपको एनएफसी मिलेगा। प्रयोग के दौरान हमें वाईफाई कनेक्टिविटी या फिर इंटरनेट का उपयोग करने में कोई दिक्कत नहीं हुई। हां एक बात का जिक्र करना जरूरी है कॉलिंग के दौरान आपको ​​क्रिस्टल क्लियर साउंड मिलेगा।

nokia-3-5

बैटरी बैकअप
नेकिया फोन शुरू से ही बेहतरीन बैटरी बैकअप के लिए जाने जाते हैं। इसमें 2,650 एमएएच की बैटरी मिलेगी। हालांकि आज 3,000 और 4,000 एमएएच बैटरी वाले फोन की भरमार है ऐसे में इसे कम कह सकते हैं कि बैटरी आॅप्टिमाइजेशन बहुत अच्छा है और एक बार पूरी तरह से चार्ज करने पर यह आसानी से एक दिन निकालने में सक्षम है। कहा जा सकता है कि बैटरी निराश नहीं करेगी।

nokia-3-8

निष्कर्ष
नोकिया 3 का​ डिजाइन, स्पेसिफिकेशन और कैमरा देखने के बाद अंतत: बारी आती है निष्कर्ष की तो आपको बता दूं कि डिजाइन में शानदार है, डिसप्ले भी बहुत अच्छा है, सॉफ्टवेयर के मामले में काफी अपग्रेड है। कमी प्रोसेसर और कैमरे की कही जा सकती है। वहीं 9,000 रुपये के फोन में आज फिंगरप्रिंट सेंसर न होना बड़ी बात है। इन थोड़ी कमियों के बावजूद हमें यह फोन पसंद आया। हां यदि आप आॅनलाइन स्टोर से फोन की खरीदारी करते हैं तो आपके पास शाओमी रेडमी 4 और रेडमी नोट 4 ​जैसे दूसरे आॅप्शन है। परंतु आॅफलाइन के लिहाज से यह एक बेस्ट फोन है।

रही बात नोकिया के वापसी करने की तो उस मामले में मेरी राय स्पष्ट है। यह वह फोन नहीं है जिससे आप कह सकते हैं कि नोकिया वापसी को तैयार है। हम कंपनी से कुछ और बेहतर की आशा कर रहे थे।

SHARE
Previous articleएक झलक वनप्लस 5 की: देखें कितना दमदार है यह फोन
Next articleजियो-जियोनी आॅफर में पाएं 60जीबी 4जी डाटा मुफ्त और 500 रुपये पेटीएम बैलेंस
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 11 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 10 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।