जानें 4जी वोएलटीई के फायदे और कैसे करें अपने एंडरॉयड और एप्पल फोन में वोएलटीई स​र्विस इनेबल

what is volte and what are the benefits of volte

रिलायंस जियो ने भारत में मोबाइल सर्विस की दशा और दिशा ही बदल दी। कंपनी ने वर्ष 2016 सितंबर में अपनी 4जी सर्विस की शुरूआत की थी और इसी के साथ हलचल मचा दी। जियो ने भारतीय मोबाइल बाजार में कई नई चीजों की शुरूआत की थी। एक तो कंपनी ने आते ही छह माह के लिए सभी कॉल और डाटा को मुफ्त कर दिया था। इसके बाद जब शुल्क की शुरुआत हुई तो वह भी बेहद कम था। परंतु सबसे बड़ा जो बदलाव था यह कि जियो ने लाइफ टाइम के लिए कॉलिंग फ्री कर दी। कंपनी का कहना था कि यूजर सिर्फ डाटा का शुल्क चुकाएगा कॉलिंग के लिए कोई शुल्क नहीं देना होगा। इसके लिए जियो द्वारा वोएलटीई सर्विस शुरू की गई।

हालांकि उस वक्त एयरटेल और वोडाफोन जैसी कंपनियां अपनी 4जी सर्विस शुरू कर चुके थे लेकिन किसी ने भी मुफ्त कॉलिंग नहीं दी थी और न ही 4जी वोएलटीई कॉलिंग थी। इतना ही नहीं कई फोन बिना वोएलटीई सपोर्ट के थे। यही वजह है कि पुराने 4जी फोन में जियो की डाटा सर्विस तो काम करती थी लेकिन उनमें 4जी वोएलटीई कॉलिंग न होने की वजह से सीधे कॉलिंग नहीं होती थी। उस वक्त जियो सिम पर कॉलिंग के लिए अलग से ऐप डाउनलोड करना होता था जिसकी क्वालिटी अच्छी नहीं थी।
jiooo
वहीं जियो के आने के बाद भारत में लोग वोएलटीई सर्विस जानने लगे और इसकी चर्चा भी शुरू हो गई और एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया जैसी कंपनियों को भी अपनी वोएलटीई सर्विस शुरू करने के लिए मजबूर होना पड़ा और आज भारत में लगभग हर आॅपरेटर के पास वोएलटीई सर्विस है। इसके साथ ही आज लॉन्च होने वाले लगभग हर 4जी फोन में वोएलटीई सपोर्ट जरूर होता है। इसका सीधा फायदा यूजर को मिला। अब यूजर डुअल सिम का उपयोग करते हैं तो दोनों सिम पर हाई डेफिनेशन क्वालिटी वाले 4जी वोएलटीई कॉलिंग का लाभ ले सकते हैं। जानें कैसे शेयर करें फेसबुक में 3डी फोटो, बहुत आसान है तरीका

बहुत से फोन में सेकेंडरी सिम या दूसरा सिम जिसे आप कहते हैं में वोएलटीई सपोर्ट नहीं होता है और कई फोन में होता भी है तो उसे इनेबल करना होता है। यदि आपको अपने फोन में एयरटेल, वोडाफोन या आईडिया नेटवर्क पर वोएलटीई कॉल करने में परेशानी आ रही है तो उसका तरीका मैनें आगे बताया है। कुछ स्टेप्स में ही इसे इनेबल किया जा सकता है। इन स्टेप्स को जानने से पहले जान लें कि क्या है वोएलटीई? स्मार्टफोन से रात में भी कैसे करें अच्छी फोटोग्राफी? जानें 6 शानदार ट्रिक्स

क्या है वोएलटीई
वोएलटीई का आशय है वॉयस ओवर एलटीई और जैसा कि आप जानते हैं एलटीई नेटवर्क 4जी को कहा जाता है ऐसे में यह स्पष्ट है कि 2जी या 3जी डिवाइस में वोएलटीई सपोर्ट नहीं होगा। यह एक तरीके हाई स्पीड वायरलेस कम्यूनिकेशन है जिसका उपयोग मोबाइल फोन, डाटा टर्मिनल, आईओटी डिवाइस और वियरेबल्स में किया जाता है। यह आईएमएस अर्थात आईपी मल्टीमीडिया सबसिस्टम नेटवर्क पर आधारित तकनीक है जो जीएसएमए द्वारा तैयार स्टैंडर पीआरडी आईआर.92 पर कार्य करता है। यह वॉयस सर्विस के लिए एक खास प्रोफाइल तैयार करता है इस वजह से कॉलिंग के दौरान आॅपरेटर द्वारा उपयोग किए जाने वाले सर्किट स्विच आदि की जरूरत नहीं होती। इस कारण यह काफी फास्ट हो जाता है। 3जी से इसकी तुलना करें तो 4जी वोएलटीई 3 गुणा ज्यादा फास्ट है जबकि 2जी के मुकाबले छह गुणा तेज है। इतना ही नहीं इस पर हाईडेफिनेशन वॉइस कॉलिंग होती है ऐसे में आपको फोन पर क्रिस्टल क्लियर साउंड मिलेगा। इसके अलावा वोएलटीई नेटवर्क पर डायरेक्ट हाई डेफिनेशन वीडियो कॉलिंग भी की जा सकती है।
airtel-4g-hotspo
अगस्त 2012 में मेट्रोपीसीज द्वारा टेक्सास के शहर डाला में वोएलटीई की पहली सर्विस शुरू की गई थी। उस वक्त यह सर्विस सिर्फ एलजी कनेक्ट 4जी मोबाइल पर ही काम करती थी। इसके बाद मई 2014 में सिंगापुर की कंपनी सिंगटेल ने वोएलटीई सर्विस शुरू की जो कि सैमसंग गैलेक्सी नोट 3 के साथ काम करती थी। 2014 में ही कोरिया में वोएलटीई सर्विस ने दस्तक दी। इसी साल चीन में भी वोएलटीई सर्विस शुरू हो गई। वर्ष 2015 में यूएस, कम्बोडिया, रोमानिया और डेनमार्क सहित कई दूसरे देशों में यह सर्विस यूजर्स के लिए उपलब्ध हुई।

वर्ष 2016 में नीदरलैंड, मलेशिया, पेरू, यूएई और श्रीलंका के अलावा भारत में भी शुरू हुई। भारत में रिलायंस जियो ने 5 सितंबर से इस सेवा की शुरूआत की। एक साल बाद अर्थात 2017 में एयरटेल ने और 2018 के शुरुआत में वोडाफोन ने भारत में अपनी वोएलटीई सर्विस शुरू की। पाकिस्तान में भी यह सर्विस 2017 में ही शुरू हुई। वहां के प्रमुख सेवा प्रदाता कंपनी जैज़ ने इसे लॉन्च किया था। जानें भारत में कैसे काम करेगा आईफोन 10एस का डुअल सिम फंक्शन और क्या है ईसिम

जानें कैसे करें अपने एंडरॅयड फोन में वोएलटीई सर्विस इनेबल
अब तक आप जान गए होंगे कि वोएलटीई सर्विस कितनी फायदेमंद है। फास्ट के साथ इसकी क्वालिटी भी बेहतर है। वैसे तो सिम एक पर वोएलटीई सर्विस खुद ही इनेबल हो जाती है लेकिन कुछ फोन में दूसरे सिम पर इसे इनेबल करना होता है। यदि आपको लग रहा है कि आपके फोन में वोएलटीई सर्विस इनेबल नहीं है तो नीचे दिए गए स्टेप फॉलो कर उसे चेक कर सकते हैं और इनेबल भी कर सकते हैं। एंडरॉयड फोन में वोएलटीई कॉल को इनेबल करने के लिए
1. सबसे पहले सेटिंग में जाना है।
2. यहां से आपको कनेक्शन का चुनाव करना है।
what-is-volte-and-what-are-the-benefits-of-volte-in-hindi
3. इसमें मोबाइल नेटवर्क का आॅप्शन मिलेगा उसे क्लिक करें।
4. इसमें वोएलटीई का विकल्प मिलेगा उसे आॅन कर दें।
इसके साथ ही आपके फोन में वोएलटीई सर्विस इनेबल हो गई। यदि फोन को एक बार रिस्टार्ट कर दें तो बेहतर होगा।

एप्पल आईफोन फोन में वोएलटीई कॉल को इनेबल करने के लिए
what-is-volte-and-what-are-the-benefits-of-volte-in-hindi
1. सेटिंग में जाना है।
2. यहां मोबाइल डाटा का चुनाव करें।
3. इसमें मोबाइल डाटा आॅप्शन मिलेगा उसे टैप करेंं।
4. यहां से 4जी इनेबल करें और वॉयस डाटा को आॅन कर दें। इसके साथ ही आपका काम हो जाएगा।