भारत में बनी दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री, मोदी ने किया उद्घाटन

अगर कोई पूछे कि कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स के मामले में दुनियाभर में सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री किस देश में है, तो इसका जवाब चीन, कोरिया या अमेरिका नहीं बल्कि भारत होगा। जी हां, आज यानि 9 जुलाई को भारत में विश्व की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का आगाज हो गया है। दुनिया की यह सबसे बड़ी फैक्ट्री दिग्गज कंपनी सैमसंग ने बनाई है और इसके 5 हजार करोड़ रुपये से भी ज्यादा का निवेश किया गया है।

सैमसंग की ओर से यह भारत में किया गया सबसे बड़ा निवेश है। सैमसंग द्वारा यह फैक्ट्री उत्तर प्रदेश के नोएडा सेक्टर-81 में बनाई गई है जिसका उद्घाटन हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे द्वारा किया गया है। सैमसंग द्वारा इस नई फ़ैक्टरी से एक साल में तकरीबन 12 करोड़ मोबाइल फोन बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

samsung-plant-1

गौरतलब है कि पिछले साल जून में सैमसंग ने 4,915 करोड़ रुपये का निवेश कर नोएडा संयंत्र में विस्तार करने की घोषणा की थी और आज महज एक साल बाद नई फैक्ट्री दोगुना उत्पादन के लिए तैयार है। भारत में कंपनी इस समय 6.7 करोड़ स्मार्टफोन बना रही है और यह नई यूनिट शुरू होने पर 12 करोड़ से भी ज्यादा मोबाइल फोन बनाए जाने की उम्मीद है। करीब 5 हजार करोड़ रुपये की लागत से बना यह सैमसंग प्लांट 35 एकड़ में फैला हुआ है।

samsung-plant-2

सैमसंग की इस नई फैक्ट्री में सिर्फ मोबाइल ही नहीं बल्कि सैमसंग के अन्य प्रोडक्ट्स भी बनाएं जाएंगे। इनमें रेफ्रिजरेटर और टेलीविजन शामिल होंगे। एक ओर जहां देश में सैमसंग के इन प्रोडक्टस की उपलब्धता बढ़ जाएगी वहीं इन इलेक्ट्रानिक उम्पादो की कीमतों में भी कमी आने की उम्मीद है। गौरतलब है कि वर्ष 2016-17 में सैमसंग का मोबाइल बिजनेस रेवेन्यू 34,400 करोड़ रुपये आंका गया था जिसमें कंपनी ने कुल 50,000 करोड़ रुपये की ​बिक्री करी थी।

लगे हाथ आपको बात दें कि भारत में इस वक्त सैमसंग 2 प्लांट से अपने प्रोडक्ट्स का निर्माण करती है। इनमें यूपी का नोएडा और तमिलनाडु का श्रीपेरूं बंदूर शामिल है। इन दो संयंत्रों के साथ ही सैमसंग ने भारत में 5 अनुसंधान एवं विकास केंद्र और 1 डिजाईन केंद्र भी बनाया हुआ है। वहीं पूरे देश में अपनी सर्विस मुहैया कराने के लिए सैमसंग इस वक्त 1.5 लाख से ज्यादा रिटेल आउटलेट खोले हुए है। सैमसंग के जरिए 70 हजार लोगों को रोजगार मिला हुआ है।